सर्जिकल स्ट्राइक के हथियारों, बोफोर्स और ट्विन बैरल गन के लिए क्रेजी हुए दिल्ली वाले

सर्जिकल स्ट्राइक के हथियारों, बोफोर्स और ट्विन बैरल गन के लिए क्रेजी हुए दिल्ली वाले

सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ पर 28 से 30 सितंबर तक देश भर में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जोधपुर में एकीकृत सैन्य कमांडर सम्मेलन में हिस्सा लिया.

ट्विव बैरल गन
ट्विव बैरल गन

पूरा देश सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ पर पराक्रम दिवस मना रहा है. इंडिया गेट के पास राजपथ पर लगाई गई प्रदर्शनी के आखिरी दिन लोगों के लिए सबसे खास थी डबल ट्विन गन और बोफोर्स तोप. डबल ट्विन गन दुश्मन के आसमानी फाइटर प्लेन को मिनटों में मारकर गिरा देती है, वहीं बोफोर्स तोप ने करगिल में भारत को दुश्मन पर विजय दिलाई.

फौजी कुलदीप यादव ने बताया जहां बच्चे सेल्फी के मजे ले रहे हैं वहीं बड़ों का ज्यादा ध्यान हथियारों की मारक क्षमता समझने में है. तीन दिनों से चल रहे पराक्रम पर्व का रविवार को समापन हो गया. भारतीय सेना ने दो साल पहले 29 सितंबर, 2016 के दिन सर्जिकल स्ट्राइक की थी जिसकी दूसरी वर्षगांठ पर इसका आयोजन किया गया.

दहशतगर्दों के ठिकानों को उन्हीं के घर में घुसकर तबाह करने की वीरगाथा यानी सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ केंद्र सरकार पराक्रम पर्व के रूप में मना रही है. इंडिया गेट के पास राजपथ पर भारतीय सेना की ओर से पराक्रम पर्व की शुरुआत की गई. इसमें आम जनता के लिए सेना की गौरव गाथा को बयां करती कई प्रदर्शनी का आयोजन किया गया. कई तरह की तोपें, रॉकेट लॉन्चर और बंदूकें भी यहां रखी गई हैं. इस मौके पर उन हथियारों की प्रदर्शनी भी लगाई गई है जिनका इस्तेमाल भारतीय सेना ने दुश्मनों को परास्त करने में किया था. इन हथियारों में कुछ इस्त्राइल के बने थे तो कुछ जर्मनी और अमेरिका के.

इंडिया गेट के पास राजपथ पर लगाई गई इस प्रदर्शनी को देखने के लिए लोग भारी संख्या में जुटे. देशभक्ति के जज्बे से लबरेज आमजन भारतीय सेना की साहस की कहानी को इस प्रदर्शनी के जरिए समझ रहे हैं

दो साल पहले सर्जिकल स्‍ट्राइक से भारत ने पाक सेना के होश उड़ा दिए थें. भारत पर हुए आतंकी हमले के बाद देश की सेना ने यह साहसी और बड़ा कदम उठाया था. सितंबर, 2016 में उरी आतंकी हमले के बाद इसी महीने की 28-29 तारीख की मध्‍य रात्रि को सेना ने नियंत्रण रेखा के पार जाकर सर्जिकल स्‍ट्राइक को अंजाम दिया था. भारतीय सेना के इस अदम्य साहस की कहानी पूरे देश में पराक्रम पर्व के रूप में दिखाई और सुनाई जा रही है.

Be the first to comment on "सर्जिकल स्ट्राइक के हथियारों, बोफोर्स और ट्विन बैरल गन के लिए क्रेजी हुए दिल्ली वाले"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*


WP Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
www.000webhost.com